Skip to content Skip to footer
(Type a title for your page here)

 उत्तर प्रदेश सरकार

अन्तर्राष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान
संस्कृति विभाग, उ0प्र0

तुलसी स्मारक भवन ,अयोध्या, उत्तर प्रदेश (भारत) 224123.
सम्पर्कः : +91-9532744231

Seal_of_Uttar_Pradesh.svg

अयोध्या शोध संस्थान

रामलीला: बांग्लादेश

रामायण, बांग्लादेश के माध्यम से महिला सशक्तिकरण 12 फरवरी 2019 भारद्वाज मंच

रामायण में सीता एक अत्यंत शक्तिशाली महिला का प्रतीक है, जो न केवल अपने जीवन पर एक मजबूत पकड़ रखती है, बल्कि अपने दृढ़ विश्वास और विचारों से घटनाओं और व्यक्तित्वों को भी बहुत प्रभावित करती है। रामायण राम की कहानी नहीं है। यह सीता के साथ राम के संबंध और उनके माध्यम से अयोध्या के मनुष्यों के साथ उनके संबंधों की कहानी है।

सीता कौन थी? हम उससे क्या सीख सकते हैं? क्या हमने इतने सालों में उसे गलत समझा? सीता का जीवन हमें हमारी अपनी नारी जाति, हमारी स्त्रीत्व और नारीवाद के बारे में क्या सिखा सकता है?

अधिकांश महिलाओं को सीता के जीवन की विभिन्न घटनाओं के साथ कई प्रतिध्वनियाँ मिलेंगी। कभी-कभी यह व्यावहारिक संदर्भ आज की महिलाओं को अपने दैनिक जीवन में निर्णय लेने के लिए मार्गदर्शन करता है। आप इस तथ्य से चकित होंगे कि एक कहानी जो मानव जितनी पुरानी है, अभी भी पूरी नारी जाति की गूँज और पीड़ा है। हम अपने जीवन में उसी तरह की दुविधाओं का सामना करते हैं जो उसने हजारों साल पहले महसूस की थीं।

क्या आप सोच सकते हैं कि हमारी कंडीशनिंग कितनी गहरी जड़ें जमा चुकी होगी और शायद यही वजह है कि हमें उन्हें बदलना बहुत मुश्किल हो जाता है? सीता की स्वयं की प्रकाशमयी शक्ति ही उनकी पहचान और स्वाभिमान को निर्धारित करती है। यह उनकी कमजोरी नहीं थी बल्कि नारीत्व और स्वाभिमान की आंतरिक शक्ति थी जिसने उन्हें बलिदान का रास्ता चुना। उसके पास आंतरिक शक्ति का अपार भंडार था जो उसके धैर्य, क्षमा और राम के प्रति प्रेम को दर्शाता है।

अंतहीन सवालों के बावजूद सीता ने सामना किया और जो पीड़ा का कारण बनी, सीता ने किसी भी स्थिति का दृढ़ता से सामना किया जो किसी भी महिला के लिए ऐसा करने के लिए एक सामान्य परीक्षा बन जाती है। हर दिन की तरह लिटमस टेस्ट किया जाता था और उसे टेस्ट साबित करना होता था।

सीता खुद को शिकार के रूप में नहीं देखती थीं। वह एक श्रेष्ठ मानव आत्मा थी, चुपचाप पीड़ित और पृथ्वी की तरह स्थायी धैर्य ने ही उसे नैतिकता की कसौटी बना दिया। सीता सभी नारीत्व का चित्रण है और इस ग्रह पर हर महिला के दिल का प्रतिबिंब है।

अन्तर्राष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान

अन्तर्राष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान की स्थापना संस्कृति विभाग, उ०प्र० शासन द्वारा एतिहासिक तुलसी भवन, अयोध्या में 18 अगस्त, 1986 को की गयी। यह संस्कृति विभाग की स्वायत्तशासी संस्था है। वस्तुतः अयोध्या की पावन भूमि पर सरयु के तट स्थित रामघाट के निकट गोस्वामी तुलसीदास जी ने सम्वत्‌ 1631 की नवमी तिथि भौमवार को श्रीरामचरित मानस की रचना प्रारम्भ की

कैंप कार्यालय

अन्तर्राष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान

अन्तर्राष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान की स्थापना संस्कृति विभाग, उ०प्र० शासन द्वारा एतिहासिक तुलसी भवन, अयोध्या में 18 अगस्त, 1986 को की गयी। यह संस्कृति विभाग की स्वायत्तशासी संस्था है। वस्तुतः अयोध्या की पावन भूमि पर सरयु के तट स्थित रामघाट के निकट गोस्वामी तुलसीदास जी ने सम्वत्‌ 1631 की नवमी तिथि भौमवार को श्रीरामचरित मानस की रचना प्रारम्भ की
कैंप कार्यालय

कॉपीराइट ©2024 अन्तर्राष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान उ.प्र.| सॉफ्टजेन टेक्नोलॉजीज द्वारा डिजाइन व डेवलप