Skip to content Skip to footer
(Type a title for your page here)

 उत्तर प्रदेश सरकार

अन्तर्राष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान
संस्कृति विभाग, उ0प्र0

तुलसी स्मारक भवन ,अयोध्या, उत्तर प्रदेश (भारत) 224123.
सम्पर्कः : +91-9532744231

Seal_of_Uttar_Pradesh.svg

अयोध्या शोध संस्थान

रिफरेन्स

रिफरेन्स

1. Quoted’, R. K. Mukherji’s: Fundamental unity of India. Bhawan’s book university, 1954.p.38.
2. Adipuram, 12.78
3. Law, B.C.: The historical geography of Ancient India (in Hindi) Lucknow, 1972. p.114
4. Aitrey Brahman VII. 3-4
5. Bhagwat Puran IX.8-19
6. Skandh Puran, I, 64-65
7. Cunningham, A: A Historical Geography of Ancient India (in Hindi) Allahabad, 1972.p .274
8. Atharra Veda. X,2.31.
9. Valmikiya Ramayan I, 6-7
10. Cunnigham, A, op.cit, Ref. 7, p.273
11. Quoted in Sita Ram’s Ayodhya Ka Itihas, Allahabad, Somb. 1988, pp.45-46.
12. Valmikiya Ramayan II 71,33
13. Ibid.,I,5.8, II 2,6., 11-13
14. Ibid., II, 6.8
15. Ibid. II. 6.15
16. Dutta, B.B.: Town planning in Ancient India, 1925,pp.206.208
17. Ryhs & Davids, T.H.: Buddhist India. Calcutta, 1950, p.34
18. Irwin, H.C. : The garden of India, London\, 1880, pp.64-65
19. Smith, V.A.: Early History of India, p.37 and see also carnegy, P.: HistoraI atlas of Tahsil Fyzabad: Zila Fyzabad, 1870, p.24.
20. Fuherer, A : The Monumental Antiquities, and Inscription is North Western Prouinces and oudh, p.296
21. Smith, V.A. :op. Cit, Ref 19, P.310
22. Allen, John: Callogue of coins in the Indian Museum, pp.150-151 and see also Mujumdar, R.C. & A.D. Pusalkar(ed) The history and Culture of Indian people, Vol. II London. 1951, P.174.

अन्तर्राष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान

अन्तर्राष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान की स्थापना संस्कृति विभाग, उ०प्र० शासन द्वारा एतिहासिक तुलसी भवन, अयोध्या में 18 अगस्त, 1986 को की गयी। यह संस्कृति विभाग की स्वायत्तशासी संस्था है। वस्तुतः अयोध्या की पावन भूमि पर सरयु के तट स्थित रामघाट के निकट गोस्वामी तुलसीदास जी ने सम्वत्‌ 1631 की नवमी तिथि भौमवार को श्रीरामचरित मानस की रचना प्रारम्भ की

कैंप कार्यालय

अन्तर्राष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान

अन्तर्राष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान की स्थापना संस्कृति विभाग, उ०प्र० शासन द्वारा एतिहासिक तुलसी भवन, अयोध्या में 18 अगस्त, 1986 को की गयी। यह संस्कृति विभाग की स्वायत्तशासी संस्था है। वस्तुतः अयोध्या की पावन भूमि पर सरयु के तट स्थित रामघाट के निकट गोस्वामी तुलसीदास जी ने सम्वत्‌ 1631 की नवमी तिथि भौमवार को श्रीरामचरित मानस की रचना प्रारम्भ की
कैंप कार्यालय

कॉपीराइट ©2024 अन्तर्राष्ट्रीय रामायण एवं वैदिक शोध संस्थान उ.प्र.| सॉफ्टजेन टेक्नोलॉजीज द्वारा डिजाइन व डेवलप